BCA and software engineering full detail in Hindi

BCA and software engineering full detail in Hindi


Bca

Intro Of This Post

हेलो दोस्तों मैं आज आपको बताऊंगा कि आप कैसे एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बन सकते हैं एप्स और मैं अब डबल पर कैसे मार सकते हैं और इसमें बीसीए और एमसीए कैसे का इसमें क्या और कैसे रोल है तो पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए यह पोस्ट पूरी पढ़ें.

What is BCA and software engineering

तो दोस्तों बीसीए का पूरा नाम बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन है यह आईटी फील्ड से रिलेटेड कोर्स है जिस कोर्स का समय 3 वर्ष है इस कोर्स में सिलेबस को 6 सेमेस्टर में बांटा गया है. बीसीए में आप क्या क्या सीखते हैं तो दोस्तों बीसीए में आपको कंप्यूटर टेक्नोलॉजी से रिलेटेड सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं जिसमें कई तरह की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज लैंग्वेज होती है. जैसे बीसीए में कई लैंग्वेज सीखते हैं.
  1. html
  2. javascript
  3. java
  4. C,C++

अगर आपको सॉफ्टवेयर और वे बिल पेमेंट वेब डेवलपमेंट में इंटरेस्ट है तो आपको शायद पता होगा ही लेकिन फिर भी मैं आपको बता देता हूं कि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज इज क्या होती हैं तो फ्रेंड से प्रोग्राम लैंग्वेज का इस्तेमाल कोडिंग करने के लिए किया जाता है एपिया वेब की दुआ कमेंट में जो प्रोग्राम लिखा जाता है वह इन लैंग्वेज में लिखा जाता है इन लैंग्वेज की सहायता से प्रोग्राम प्रोग्रामर प्रोग्रामिंग करता है कोडिंग करता है तब जाकर एपिया एक वेब डेवलपर होती है दीपकतो इसके बाद आगे बढ़ते हैं बीसीए करने के बाद आप किसी कंपनी के साथ इंटर्नशिप के लिए अप्लाई कर सकते हैं या फिर सीधे ही एम सी ए कर सकते हैं तो आप जान लेते हैं एमसी के बारे में.

MCA से रिलेटेड BCA and software engineering की जानकारी

तो दोस्तों बीसीए करने के बाद आपको Mca करना पड़ेगा तो दोस्तों एमसीए का समय 2 वर्ष है इसमें आपको यह जो कोर्स है यह 2 वर्ष में कंप्लीट कराया जाता है. इसका पूरा नाम मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन है और इसमें आपको सिखाया जाता है कि एप्स और वेब कैसे Developed किए जाते हैं प्रोग्राम कैसे लिखा जाता है कोडिंग कैसे होती है इसमें आपको ज्यादातर प्रैक्टिकल सिखाया जाता है जिसमें आपको पूरी जानकारी मिलती है.

BCA with software engineering kase

जब आप बीसीए कर लेंगे और इसके बाद एमसीए भी कंप्लीट कर लेंगे तो आपको वेब और सॉफ्टवेयर डेवलपिंग की  पूरी प्रोसेस के बारे में आप जान जाएंगे कि कैसे सॉफ्टवेयर और वेब डेवलपर किए जाते हैं और जब आप खुद से एप्स और साइट बनाना सीख जाते हैं तो आप एक प्रोग्रामर जा सॉफ्टवेयर डेवलपर बन जाते हैं और बीसीए और एमसीए करने के बाद आप किसी भी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर की पोस्ट के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

तो दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो कमेंट करके बताइए और शेयर जरूर करिएगा और साथ में सब्सक्राइब भी जरूर करें